© niralabideia.com

Search
  • Nirala Bidesia

‘‘इंद्रजीवी बने बुद्धिजीवी कुछ दिनों तक लिखना बंद कर दे, भारतीयता बचेगी, देश बचेगा’’


कृष्णबिहारी मिश्र कोलकाता के अपने आवास में


कृष्णबिहारी मिश्र तीन नवंबर 2019 को उम्र के 88 वर्ष पूरे कर 89वें साल में प्रवेश किये. उनके 85वें जनन्मदिन पर उनसे फोन पर बातचीत हुई थी, वह इस प्रकार से था. उसी बातचीत का यहां प्रकाशन है.


निराला बिदेसिया


85 साल की उम्र हो गयी. आप सक्रियता के साथ इसी तरह आगे और जीयें और आपकी रचनाधर्मिता बनी रहे.


- बुढ़ौती का असर हो गया है बचवा. अंखिया से पानी आने लगा है. पढ़ नहीं पा रहे, लिख नहीं पा रहे. बुढौती और आंख ने मिलकर धर्म छुड़ा दिया है. धर्मविहीन जिंदगी गुजार रहा हूं. अपना धर्म तो पढ़ना-लिखना ही है न. धर्म नहीं निबाह पा रहा तो जिसे खिन्नता कहते हैं, वह कभी कभार हावी हो जाता है. खरिका जैसा शरीर शुरू से है लेकिन बरियार बैल जैसा काम करते रहे जिंदगी भर तो अब काम किये बिना मन नहीं लगता. देखो ना तुमसे बात कर रहे हैं, सोपारी गले में अझुरा गया है. अब बताओ कि जिस सोपारी को जीवन भर कचरते रहे, उ भी अझुराने लगा है तो बुढौ़ती हावी ही हो गयी है न! रखो फोन अभी बात नहीं कर पा रहा सोपारी के फंसे होने के कारण

(उस वक्त वे फोन रख देते हैं. बात नहीं कर पाते. फिर शाम को बात होती है)


आप तो देश के बड़े महानगर में गंवई चेतना से लैश मानुष बने रहे. एकदम ठेठ गंवई भोजपुरी बनकर रहते हैं. खुद से भी आपको खूब लड़ना पड़ा होगा.


- नहीं, एकदम नहीं. कलकत्ते में मैं जहां रहता हूं, उस पूरे काॅलोनी और मोहल्ले में अकेला हिंदीभाषी हूं. बाकि सारे बांग्लाभाषी हैं. बंगाली बहुत रिजर्व और सेलेक्टिव होते हैं. वे जल्दी किसी से आत्मीयता नहीं होते. उन्हें अपनी भाषा-संस्कृति पर सबसे ज्यादा गर्व रहता है और यह अच्छी बात भी है. हिंदीवालों से जल्दी नहीं जुड़ते लेकिन मेरा सौभाग्य रहा कि मेरे आसपास रहनेवाले तमाम बांग्लाभाषी शुरू से ही बहुत आत्मीयता से जुड़े रहे. यह सब एक दिन में नहीं हुआ. भाषा तो किसी समुदाय के लिए एक माध्यम भर होता है, असल तो मानवता और भावना होती है. बाबरी मस्जिद ध्वंस हुआ था तो हमने अपने मोहल्ले में एक कैंप बनाया था. इकलौता कैंप था, जहां हिंदू और मुसलमान साथ रहते थे. यह एक ऐसा अभियान था, जिसने हमारे पूरे मोहल्ले को एक मानवीय समुदाय में बदल दिया. रही बात गांव को जीने की तो उसके लिए कभी नहीं लड़ना पड़ा खुद से. मैं तो ठेठ गंवई आदमी ही हूं न. किसान परिवार से हूं. गांव कभी गया नहीं मन से. लेकिन अब तो गांव भी गजब के होते जा रहे हैं. मैं तो अब जा नहीं पाता गांव लेकिन कुछ ऐसी घटनाएं हुई, जिससे लग रहा है कि गांव भी अपना स्वत्व और निजता खोते जा रहे हैं और यह बड़ा संकट है भविष्य के लिए. गांव अगर अपनी पहचान खोयेंगे, स्वत्व खो देंगे तो भारत जैसे मुल्क के लिए बड़ी परेशानी होगी.


कैसी घटनाएं घटी, जिससे उपजे अनुभव के आधार पर आप यह बात कह रहे हैं?


- अब क्या बताउं. अभी कुछ दिनो ंपहले मेरी नतिनी अपने गांव गयी थी. बहुत उत्साह से गांव गयी. वह अपना घर-बागिचा देखने गयी थी. मुंबई रहती है. उसका ससुराल हमारे गांव तरफ ही है. गांव में हमारे यहां अब ताला बंद रहता है. बेटे और परिवार के लोग हमेशा जाते हैं. वहां एक लंगर हैं, वही सब देखरेख करते हैं. मेरी नतिनी गयी तो लंगर से लोगों ने पूछा कि कौन है? सबने बताया कि मेरी नतिनी है. वह बहुत देर तक रूकी.


वहां से विदा होने लगी. ढेरों महिलाएं थी लेकिन किसी ने चार दूब भी नहीं दिया, दो मुठी चावल से खोईंछा भी नहीं भरा. नईहर से कोई बेटी चले, सामने महिलाएं हो औ खोईंछा भी न भरे, यह तो सोचकर ही मन परेशान हुआ. मेरी नतिनी थी, इसलिए नहीं कह रहा, यह गांवों में खत्म होते स्वत्व और निजता की बात है. लगातार पिछले दिनों से मेरे मन में गांव की तसवीर उभर रही है. 4थी कक्षा तक ही गांव रहा था,उसके बाद छुट गया लेकिन गांव हमेशा जाता रहा, जीवंत रिश्ता बना रहा.


मुझे याद है कि एक बार मैंने भोजपुरी सम्मेलन की एक पत्रिका में भोजपुरी में अपने गांव पर एक लंबा लेख लिखा था. उसे अरूणेश नीरन ने अपनी पत्रिका में प्रकाशित किया. मेरे गांव के ही एक सज्जन कलकत्ते में रहते थे. वे घर आते थे. वे उस लेख को पढ़े. मुझे मालूम नहीं चला. हमारे ग्रामीण कब उसकी फोटो काॅपी करा लिये. वे कई प्रति फोटो काॅपी कराकर गांव गये तो बांटे. मैं कुछ दिनों बाद गांव गया था. वहां गया तो सबसे पहले एक बूढ़े मिले.


वे मुझे देखते ही अंकवारी में भरकर लगे रोने. मैं समझ नहीं पाया. कहने लगे कि तु लईकाई मंे गांव छोड़ देले रहअ बाकि केतना बसा के रखले बाड़अ अपना गांव के. हमनी के गांव में ही रहत बानीं जा बाकि एतना खूबसूरती से तो आपन गांव के जानते नईखीं जा, एतना कुल बात, एतना महत्व तो आज तक ना जनलीं जा आपन रहन-सहन के. गांव के लोग ऐसे ही होते हैं. वे जानकर, उसे जनवाने के लिए कुछ नहीं करते. उनका जो स्वभाव होता है, वही उनका स्वत्व होता है. एक बार और की बात बताउं. मैं खुद बूढ़ा होने पर गया. हमारे घर के पीछे एक आजी रहती थी. मैं अपने दालान में बैठा था. देखा कि एक महिला आ रही है, फिर लौट गयी. मैंने लंगर से पूछा कि के रहल ह हो जे आवत रहल ह, फेरू लवट गईल.


लंगर ने बताया कि पिछिलका दुआरीओला आजी ना रहली ह. मैंने कहा कि लौट क्यों गयी? अभी यह बात कर ही रहा था कि देखा फिर आजी सामने आ गयी. प्रणाम पाति के बाद पूछा कि आजी लवट काहे गईलू ह हो, आवत रहलू ह तो! आजी ने कहा कि तोहरे के देख के लवट गईल रहीं. काल्हे ना अपना नईहरा से लवटनी ह. का जानी अब फेरू नईहर जाईब कि ना, का जानी नईहर जाईब तो तू सामने रहबअ कि ना. नईहर से ठेंकुआ लाईल बानी. वे अपने अंचरा से ढंककर, एक प्लेट में कर के दो ठेंकुआ लेकर आयी थी मेरे लिए. ऐसा ही गांव रहा है, इसलिए इस बार जब मेरी नतिनी बतायी तो मन में लगा कि क्या गांव मंें भी निजता का, स्वत्व का लोप होता जा रहा है! इस सवाल ने परेशान कर रखा है.


- ंअगर ऐसा हो रहा है तो क्या मानें. यह उदारीकरण, बाजारीकरण, भूमंडलीकरण के बाद आयी आंधी का प्रभाव है, जिसमें गांव अपना स्वत्व खोकर विकास की रेस में शामिल होने के लिए आतुर हैं और सब बदलाव-बिगड़ाव इसी से हो रहे हैं?


- नहीं ऐसा मैं नहीं कहूंगा. ऐसा तो नहीं कहूंगा कि सब विकास के कारण हो रहा है. विकास एक अच्छी चीज है. यह भी मैं मानता हूं कि पिछले कई सालों में तेजी से विकास हुआ है और जीवन स्तर में तेजी से बदलाव आये हैं, जो अच्छा ही है. यह जरूरी भी था. मैंने तो गावं में वह दिन देखे हैं जब उनी कपड़ा गांव में किसी किसी के पास होता था. उनी शाॅल तो गांव-जवार में मेरे घर पर ही एक जोड़ी था. शादी-ब्याह-गवना आदि में उसी को मांगकर ले जाया जाता था, उसी से काम चलता था.


लेकिन अब किसके पास उनी कपड़ा नहीं होता. घोर विपन्नता थी. अब वह स्थिति नहीं है और यह विकास जरूरी था. लेकिन हमें यह सोचना होगा कि हम इतने अभाव में रहे, सदियों तक गुलामी में रहे फिर भी अपनी निजता को बचाये रखे तो फिर इतनी तरक्कीवाले युग में अपनी निजता ही क्यों खोते जा रहे हैं. अपनी पहचान ही क्यों खोते जा रहे हैं. इसकी कई वजहें हैं, जिसमें एक वजह तो यह भी है हम सबका भी दोष है. हमने अपनी ही चीजों पर गर्व किया नहीं, उसे गर्व का विषय बनाया ही नहीं. दूसरी दुनिया में मगन होते गये.


जैसे?


- जैसे ढेरों बातें हैं. आप आदिवासियों का जीवन देखिए. उनके जीवन के खूबसूरत पक्ष को देखिए. क्या हम लिखने-पढ़नेवाले बौद्धिक कभी उसे ठीक से बताये हैं कि उनका जीवन दर्शन कैसे खास है और उसे अपनाने से, उस पर गर्व करने से कई मुश्किलें कैसे आसान हो सकती है. जैसे मैं एक उदाहरण तो अपने ही इलाके का देता हूं. गाजीपुर में एक पौहारी बाबा थे. उनका दर्शन करने विवेकानंद उनके पास पहुंचे थे. पौहारी बाबा से उनकी मुलाकात हुई. पौहारी बाबा ने कहा कि तुम्हारे गुरू कोई और हैं, भटकने की जरूरत नहीं.


खैर, यह तो अलग प्रसंग है लेकिन आप सोचिए कि उतनी दूर से चलकर विवेकानंद नहीं गये होते, वे नहीं बताये होते तो हम पौहारी बाबा को जानते तक नहीं. पौहारी बाबा के बारे में नहीं बताया गया तो आज भी जाइये उनके इलाके में लोग पौहारी बाबा का स्थान बता देंगे, नाम का जयकारा लगा देंगे. उनका क्या महत्व था, यह कोई नहीं बतायेगा. तो ऐसे ही जो जीवन दर्शन की चीज है, आध्यात्मक अनुभूति की चीज है, उसे उभारे नही ंहम. जीवन दर्शन, आध्यात्म ही चरित्र और संस्कार का निर्माण करते हैं. इन विषयों पर हमारे हिंदी इलाके में सांस्कृति आयोजन की परंपरा नहीं रही तो लय लड़खड़ा रही है और इस लय के लड़खड़ाने से आनेवाली चुनौतियों को देख पा रहा हूं.


किस तरह का संकट देख रहे हैं?


- यह हमारा देश अरण्यक रहा है. जंगलों का देश. गांवों का देश. गांव ही मूल हैं. गांव ने ही गुलामी में भी भारतीयता को बचाये रखने की प्रेरणा और ताकत दी. भारत के पास मूल पूंजी और दुनिया में उसकी पहचान भारतीयता ही है. भारतीयता पर संकट आयेगा तो समझिए कि लाख तरक्की के बावजूद देश कहां होगा. यह हमारी भारतीयता से ही दुनिया में हमारा मान रहा है. महान विद्वान मैक्समूलर की दो खंडों में चिट्ठियों की किताब है. एक खंड में अपनी श्रीमति के नाम लिखी हुई चिट्ठियां हैं, दूसरे खंड में लाॅर्ड मैकाले के नाम लिखी हुई चिट्ठियां. मैक्समूलर एक चिट्ठी में मैकाले को लिखते हैं कि यह जो भारत है, उसकी असल ताकत उसकी संस्कृति है, भारतीयता है, उनका निजीपन है, स्वत्व के प्रति आग्रह है. अगर इसे खत्म नहीं करोगे तो लंबे समय तक राज नहीं कर पाओगे.


आप समझिए कि मैक्समूलर कितनी गहराई से चीजों को समझ कर क्या लिख रहा था मैकाले को और फिर मैकाले ने क्यों कोशिश की थी भारतीयता को खत्म करने की. लेकिन गुलाम भारत में किसी ने भी भारतीयता को खत्म नहीं किया, अब हम अपने से अपना स्वत्व, अपनी निजता खोते जा रहे हैं तो सबसे बड़ा संकट यही आनेवाला है.


आपने जो बातें कही उससे यह परिलक्षित होता है कि जो बुद्धिजीवी समाज है, उसने अपने दायित्वों का निर्वहन नहीं किया. जो बताना चाहिए था, उभारना चाहिए था, वह नहीं उभारा, इसलिए यह इस समूह की भी चूक है.


- परिलक्षित होने की बात नहीं, मैं तो खुलकर कहता हूं कि बुद्धिजीवी अब इंद्रजीवी हो गये हैं. विनोबा जैसे संत कहते थे कि बुद्धिजीवी कुछ दिनों तक लिखना पढ़ना बंद कर देंगे तो दुनिया तबाह होने से बच जाएगी. मैं भी यही कहता हूं कि बुद्धिजीवी और उसमें भी विशेषकर हिंदी इलाके के बुद्धिजीवी अगर कुछ दिनों तक रहम कर के लिखना पढ़ना बंद कर दे तो देश पर और हिंदी इलाके पर अहसान होगा. यह इलाका तबाह होने से बच जाएगा. मैं तो अब स्मरण करता हूं कि क्यों हमारे ऋषितुल्य गुरू आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदीजी ने तब इमरजेंसी के पक्ष में हस्ताक्षर किया होगा.


अब आखिरी सवाल. इतना काम किया आपने. इतना नाम हुआ आपका. आपको ढेरों प्रस्ताव आये होंगे, फिर क्यों नहीं गये कहीं गये. कलकत्ता के एक काॅलेज में ही जीवन भर सेवा देते रहे, एक कोठरी में जीवन गुजारते रहे.


- मैं तो कभी यूनिवर्सिटी भी नहीं गया. मुझे कई प्रस्ताव मिले. ढेरों प्रस्ताव. एक बार मोह हुआ था जब अपने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से प्रस्ताव आया था. मेरी दिली इच्छा थी कि अपने विश्वविद्यालय में रहूं लेकिन वहां नहीं जा सका. और जब वहां ही नहीं गया तो फिर कहीं क्यों जाना. बंगाल आया तो यह तो हिंदी के लिए सबसे समृद्ध इलाका रहा है. यहां आनंद आने लगा. काॅलेज में ही रहा. कभी यूनिवर्सिटी प्राध्यापक बनने की भी इच्छा नहीं हुई. काॅलेज में रहकर ही जो कर सकता था, जितना संभव था, वह करता रहा. काम पर ही ध्यान रहा, नाम, यश, प्रतिष्ठा पर नहीं. काॅलेज में रहते भी सरकार इतना देती थी कि दाल-रोटी-भात-तरकारी चले. रिटायर होने के बाद पेंशन भी सरकार इतना दे देती है कि खरिका जैसा मेरा देह पला जाये. और क्या चाहिए...

74 views